History of Jharia and Best 5 tourist places of Dhanbad | झरिया का इतिहास व धनबाद का पर्यटक स्थल

0
152
tourist places of Dhanbad
Image sources :- google

झरिया का इतिहास व धनबाद का पर्यटक स्थल | History of Jharia and Best 5 tourist places of Dhanbad,गिरिडीह पर्यटन स्थल, जिला परिषद धनबाद,नोट धनबाद,झारखंड का सबसे बड़ा डैम,झारखंड में झील,मैथन डैम इन झारखण्ड,धनबाद तस्वीरें,धनबाद जिला


धनबाद :- धनबाद भारतीय राज्य( History of Jharia)  झारखंड, जमशेदपुर के बाद दूसरा सबसे अधिक आबादी वाला शहर है । यह भारत के 22 सबसे बड़े शहर के रूप में शुमार है और भारत में 42 वे सबसे बड़ा मिलियन से अधिक शहरी समूह है। धनबाद जिले आमतौर पर भारत की कोयला राजधानी के रूप में भी जानी जाती है । यह झारखंड का सबसे विस्तृत शहर है । यह शहर अपने कोयला उद्योगों और कारखानों के लिए बहुत प्रसिद्ध है और पूरे भारत में सबसे सफल व्यवसायिक क्षेत्रों में से एक है ।

झरिया का इतिहास व धनबाद का पर्यटक स्थल  :- भारत की सबसे बड़ी कोयला खदानों में से एक के आवास के लिए शहर को भारत की कोयला राजधानी कहा जाता है। धनबाद की आबादी लगभग 2,682,662 थी। अब इससे भी ज्यादा बढ़ गई है। Dhanbad में कुछ ऐसे भी स्थान है जिसके बारे में हम बताने जा रहे हैं ।

झरिया :- झरिया को धनबाद  ( tourist places of Dhanbad ) शहर का पड़ोसी माना जाता है। झरिया की अर्थव्यवस्था कोक बनाने के लिए उपयोग किए जाने वाले स्थानी कोयला क्षेत्रों पर बहुत अधिक निर्भर है । झरिया झारखंड राज्य में कोयले के सबसे बड़े भंडारों में से एक है इस भारी यात्रा में नीतू मीना कोयला होता है जिसे को प्राप्त करने के लिए जलाया जाता है ।

tourist places of Dhanbad :- खेतों में कम से कम 1916 के बाद से कोयले के बिस्तर में आग लगी है । जिसके परिणाम स्वरूप आग से 37 मिलियन टन कोयले की खपतहुई है और झरिया शहर सहित स्थानीय समुदायों में महत्वपूर्ण जमीनी अवतलन और जल और वायु प्रदूषण हुआ है। परिणामी प्रदूषण में स्थानीय आबादी को स्थानांतरित करने के लिए नामित एक सरकारी एजेंसी को जन्म दिया है हालांकि स्थान तरण में बहुत कम प्रगति हुई है ।

Table of Contents

झरिया का इतिहास व धनबाद का पर्यटक स्थल | tourist places of Dhanbad

1झरिया एक नामी बाजार
2झरिया बाजार का चिल्ड्रन पार्क
3झरिया का नामी दुर्गा स्वीट्स
4कल्यानेश्वर मंदिर की जनकारिया
5पंचेत डैम
6पंचेत का स्नेक पार्क
7भटिंडा फॉल
8मैथन डैम
झरिया का इतिहास व धनबाद का पर्यटक स्थल | tourist places of Dhanbad

झरिया का इतिहास | History of Jharia

झरिया का इतिहास व धनबाद का पर्यटक स्थल  :- झरिया का इतिहास बहुत ही पुराना है ।  झरिया में बहुत से  विदेशी गोरे लोग रहा करते थे। यहाँ राजाओं का इतिहास बहुत पुराना है। झारखंड राज्य के धनबाद जिले से 8 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। झरिया एक वक्त ऐसा था झरिया में राजा महाराजाओं का राज हुआ करता था। जिसके किले आज भी झरिया में जर्जर हालत में खड़ी है । जिसे आज भी देखा जा सकता है । झरिया में मौजूद पुराने किले को देखकर अंदाजा लगा सकते हैं कि यह किला कितना पुराना है ।

History of Jharia:- अंग्रेज यहां बाद में आए लेकिन उससे पहले राजा महाराजा का राज हुआ करता था। आपको यह भी बता दे कि हम भी झरिया के ही निवासी हैं और यह अंग्रेज का जमाना का घर में बैठ कर लिख रहे हैं ।  यहां आज भी राजा महाराजा का वंश रहते हैं । 18 वीं तथा 19 वीं सदी में अंग्रेजों ने इस क्षेत्र पर कब्जा कर अपने कब्जे में कर लिया था ।

भारत के सबसे बड़े ब्रिटिश प्रांत बंगाल को प्रेसीडेंसी का हिस्सा बनाया । 1 अप्रैल 1912 को बिहार और उड़ीसा विभाजन कर दोनों बिहार और उड़ीसा प्रांत के रूप में पश्चिम बंगाल प्रेसीडेंसी से अलग कर दिया गया । 22 मार्च सन 1936 को बिहार और उड़ीसा को विभाजन कर अलग अलग प्रांत बनाया गया । आज भी झरिया राज परिवार का पैतृक घर शकीला कटरा जम्मू कश्मीर में स्थित है ।

tourist places of Dhanbad :- पारिवारिक इतिहास के अनुसार जमींदार मूल रूप से मध्य भारत के रीवा मध्य प्रदेश के रहने वाले थे और सन 2016 में झरिया के आसपास के क्षेत्र में अपना राज्य स्थापित किया था। गांव में जमींदार का निवास स्थान है। जो परंपरा के अनुसार पहले झरिया राज का मुख्यालय हुआ करता था । जब इस क्षेत्र में कोयले की खोज हुई और सन 1890 के दशक में इस क्षेत्र में कोयला खनन शुरू हुआ तो झरिया राज के उल्लेखनीय जमींदार राजा दुर्गा प्रसाद सिंह का ही नाम पहले आता है।

झरिया का इतिहास व धनबाद का पर्यटक स्थल  :- जिन्हें सन अट्ठारह सौ पचास के दशक में संपत्ति मिली थी । वह उस वक्त नाबालिक थे सन् 1916 में राजा दुर्गा प्रसाद सिंह की मृत्यु हो गई जनवरी 1947 में राजा शिव प्रसाद की मृत्यु हो जाती है और उनकी सबसे बड़े पुत्र श्री काली प्रसाद सिंह झरिया के अंतिम राजा बनते हैं जब तक कि 1952 में सरकार द्वारा जमीन दारी समाप्त नहीं कर दी गई ।

झरिया एक नामी बाजार | Jharia is a famous market

tourist places of Dhanbad
Image sources :- google

झरिया का इतिहास व धनबाद का पर्यटक स्थल  :- झरिया का बाजार में आपको बताया जाए तो सभी बाजार को पीछे कर देगा ऐसा है झरिया का बाजार। इस बाजार में आप जो भी चाहिए वह ले सकते हैं । यह इतना ज्यादा मशहूर है कि धनबाद और धनबाद के अन्य जगह से लोग झरिया बाजार में खरीदारी करने आते हैं और यहां का बाजार वाकई में बहुत ही अच्छा है । झरिया बाजार को अलग – अलग वस्तु में बांटा गया जैसे – कपड़ा पट्टी , मछली पट्टी , बर्तन पट्टी , सब्जी पट्टी इत्यादि । धनबाद का सबसे बड़ा सब्जी पट्टी झरिया में है । झरिया में कई तरह के सामान मिलते हैं ।

झरिया बाजार का चिल्ड्रन पार्क | Children’s Park of Jharia Bazar

Image sources :- google

History of Jharia ;- झरिया बाजार का चिल्ड्रन पार्क के बारे में बताया जाए तो यह पार्क बच्चों के खेलने और बड़ों के घूमने – फिरने और सुबह – सुबह अभ्यास , व्यायाम करने के लिए खास तौर पर बनाया गया है । इस पार्क में उतनी भी कुछ खास चीजें नहीं बनाई गई है । बस छोटा सा पार्क है। जिसमें लोग जाकर टहल सकते हैं और थोड़ा मोड़ा मनोरंजन कर सकते है ।


झरिया का नामी दुर्गा स्वीट्स | famous Durga Sweets shop of Jharia

tourist places of Dhanbad
Image sources :- google

tourist places of Dhanbad :- झरिया का दुर्गा स्वीट्स के बारे में बताया जाए तो यह एक होटल है ना कि रेस्टोरेंट । इस होटल में अपने प्रेमी या परिवार के साथ जा सकते है। इस होटल में तरह – तरह के खाने पीने का सामान मिलते हैं । जैसे मिठाई कोल्ड ड्रिंक ,चाऊमीन, डोसा, इडली ,छोला भटूरा ,समोसा मिठाई में बताया जाए तो रसमलाई ,काला जामुन ,रसगुल्ला ,काजू बर्फी इत्यादि मिलते हैं । इस होटल को 2 भाग में बांटा गया है :-
पहला दुर्गा मिस्ठान भंडार जहां मिठाई और समोसा मिलता है ।
दूसरा दुर्गा इसमें सभी प्रकार के खाना जैसे आपको ऊपर बताया गया। साउथ इंडियन खाना नॉर्थ इंडियन खाना चाट समोसा छोला भटूरा इत्यादि।

कल्यानेश्वर मंदिर की जनकारिया  | know about Kalyaneshwar Temple

tourist places of Dhanbad
Image sources :- google

झरिया का इतिहास व धनबाद का पर्यटक स्थल  – कल्यानेश्वरी मंदिर का स्थापना 1377 में हुआ था। यह करीबन 500 साल पुराना मंदिर है । यह बराकर नदी के तट पर मैथन आसनसोल पश्चिम बंगाल के पास स्थित है। यह एक पवित्र हिंदू मंदिर है। इस मंदिर में काफी सदीयों का इतिहास कहानियां और रहस्य है। यह झारखंड और पश्चिम बंगाल के कई पर्यटक मंदिर में आता है क्योंकि यह बंगाल झारखंड सीमा पर मौजूद है ।

tourist places of Dhanbad :- अगर आप इस में जाना चाहते हैं तो किसी का व्यास द्वारा जा सकते हैं । विशेष रूप से बंजर यानी संतान महिलाएं दूर – दूर से यात्रा करते हुए अपनी बांझपन को बहाल करने के लिए प्रार्थना और प्रार्थना करने के लिए यहां आती है और माना जाता है कि पीठासीन देवता अपनी शरण पाने वाली महिलाओं को रंजन क्षमता प्रदान करते हैं । इसलिए मंदिर को लोकप्रिय रूप से पूर्ति की देवी के मंदिर के रूप में माना जाता है ।

अन्य पढ़े

कल्यानेश्वर मंदिर का इतिहास | History of Kalyaneshwar Temple

झरिया का इतिहास व धनबाद का पर्यटक स्थल : इतिहास के अनुसार कल्यानेश्वरी मंदिर का निर्माण तीसरी शताब्दी में कोर्टा के राजा ने करवाया था। ऐसा माना जाता है कि इस हिंदू मंदिर की सबसे प्रमुख संरचना मूल रूप से महाराजा हरि गुप्त द्वारा बनाई गई थी। जो तीसरी शताब्दी ईस्वी में किसानों से भाग रहे थे हालांकि पुराना मंदिर बर्बाद होने लगा बाद में लगभग 5 शताब्दी पहले पंचकोट के राजा  द्वारा किया गया था । इससे मंदिर को पूरी तरह से बहाल करने में उन्हें लगभग 5 साल लग गए ।

tourist places of Dhanbad :- विभिन्न मिथक और किंवदंतियों इस मंदिर की वास्तविक उत्पत्ति के इधर – उधर घूमती है । कुछ लोगों का मानना है कि मंदिर का निर्माण उस स्थान पर किया गया था। जहां देवी पार्वती के शरीर का एक – एक अंग गिर गया था । जब भगवान विष्णु के सुदर्शन चक्र द्वारा इसे टुकड़ों में काट दिया गया था। जबकि भगवान शिव उन्हें अपने कंधे पर ले जा रहे थे ।


झरिया का इतिहास व धनबाद का पर्यटक स्थल  :- कल्यानेश्वर मंदिर के पूजा का एक अन्य कहानी है कि एक बार एक पुजारी द्वारा देवी को भोजन देने में देरी हुई थी जो मंदिर में नियमित रूप से देवी और पूजा करते थे पुजारी ने अपनी बेटी को मंदिर में छोड़ दिया और भोग या प्रसाद की व्यवस्था करने के लिए कुछ अनुष्ठानों को अधूरा रखा और उसके लौटने के बाद पुजारी ने पाया कि देवी ने अपनी बेटी को मार डाला है और उसे बलि के रूप में लेना स्वीकार कर लिया है ।

कल्यानेश्वरी मंदिर का रिवाज | History of Kalyaneshwar Temple

History of Jharia :- सुदूर अतीत में स्थानीय लोगों के बीच या अफवाह फैली थी कि इस मंदिर में मानव बलि दी जाती है । हालांकि ऐसी अफवाहों का कोई उचित सबूत नहीं है । लेकिन यह एक सत्य तथ्य है कि आज तक भक्तों द्वारा विशेष रूप से बकरे की बलि दी जाती है। जब उनकी इच्छा पूरी हो जाती है। तो यहां परिवार के कल्याण के लिए मूर्ति की देवी को चढ़ाया जाता है । गांव वाले अपने बेटी या बेटे की शादी के दिन या उससे पहले पशु बलि बकरी बढ़ाने के पवित्र अनुष्ठान का सख्ती से पालन करते हैं।बदले में अपने बच्चे के लिए आशीर्वाद लेने में असफल होते हैं।

कल्यानेश्वरी मंदिर के पास घूमने का जगह |  places to visit near kalyaneswari temple

झरिया का इतिहास व धनबाद का पर्यटक स्थल  :- वर्तमान समय में यह मंदिर बहुत पुराना नहीं है। यह स्थान नदी और चारों ओर घने जंगलों से भरे सबसे शुरू में क्षेत्रों से घिरा हुआ है। मंदिर के साथ – साथ पूरे आसपास के परिसर को अच्छी तरह से बनाए रखा गया है और इसे साफ और स्वच्छ बनाया गया है । जगह की पवित्र प्रकृति के अलावा या एक बहुत अच्छा दर्शनीय स्थल भी है । कोई भी प्रसिद्ध मैथन बांध या यात्रा कर सकता है। जो कल्यानेश्वरी मंदिर की ओर जाने वाला सड़क के बहुत करीब है ।

कल्यानेश्वरी मंदिर के पास प्रसिद्ध मैथन बांध |  Famous Maithon Dam near Kalyaneswari Temple

झरिया का इतिहास व धनबाद का पर्यटक स्थल  :- प्रसिद्ध मैथन बांध मंदिर के अस्थान के केवल 10 मिनट की यात्रा है । जो आसनसोल में रहते हुए परिवार और दोस्तों के साथ घूमने के लिए एक उल्लेखनीय जगह है । पीक सीजन के दौरान इस क्षेत्र में पिकनिक प्रेमियों के साथ एक विशाल गिरोह के साथ भीड़ होती है । यहां सालभर हजारों पर्यटक आते हैं। जो लोग आसपास के स्थानों में रहते हैं। वह नियमित रूप से मंदिर आते हैं ।

पंचेत डैम के बारे मे जानिए | know about Panchet Dam

झरिया का इतिहास व धनबाद का पर्यटक स्थल, tourist places of Dhanbad
Image sources :- google

tourist places of Dhanbad:- पंचेत डैम पुरुलिया जिले के पृथक क्षेत्र में बनाया गया है। जिसमें लगभग कोई उचित संसाधन नहीं है क्योंकि उसके टक्कर में मैथन डैम है । जो कि इस के बराबर नहीं है। मैथन डैम जाने के पहले काफी अच्छे – अच्छे होटल रेस्टोरेंट्स फूड मिल सकते हैं। मैथन और पंचायत आसनसोल शहर के पास डीवीसी द्वारा प्रबंधित 2 सबसे बड़े बांध हैं । पंचायत का निकटतम रेलवे स्टेशन के बारे में बताया जाए तो वह कुमार डूबी है जो पंचायत के लगभग 15 किलोमीटर दूर है ।

झरिया का इतिहास व धनबाद का पर्यटक स्थल  : अगर आप सभी इस से नहीं जाना चाहते तो आसनसोल से जा सकते हैं। यह पागल भीड़ से दूर एक छोटी सी जगह है । पंचेत बांध दामोदर नदी पर और धनबाद से लगभग 55 किलोमीटर दूर बना है। यह पिकनिक मनाने के लिए अच्छा माना जाता है। अगर आप चाहे तो यहां जाकर आप reels व वीडियो भी बना सकते हैं। माना कि पंचायत बांध खराब सड़क वाला लंबा बांध है। लेकिन यहां हरियाली भी है ।

झरिया का इतिहास व धनबाद का पर्यटक स्थल  :- दिलचस्प कुछ भी नहीं मिला क्योंकि 2018 के दौरान बताया जाए तो या गर्म था यह जगह दोपहर के लिए अच्छी मानी जाती हैं । इस जगह का लुफ्त करने का उपयुक्त समय मानसून के अंत में है । जब डैम का पानी का स्तर ऊंचा होता है और बांध के द्वारा पानी को बाहर करने के लिए अनलॉक होते हैं । यह सर्दियों की शुरुआत में होता है। पर्यटक कुमार धोबी पहुंचकर इस स्थान तक पहुंच सकते हैं । जो ग्रैंड 4 लाइन के माध्यम से पंचेत बांध से केवल 10 किमी निकट रेलवे स्टेशन होता है ।

History of Jharia :- बांध की पृष्ठभूमि वंचित पहाड़ी है । जो इस जगह को यात्रियों के लिए विशेष रूप से क्रिसमस और नए साल के दिनों के लिए एक महान पिकनिक स्थान बनाती है ।

पंचेत का स्नेक पार्क |  Panchet’s Snake Park

tourist places of Dhanbad
Image sources :- google

tourist places of Dhanbad :- पंचेत बांध बहुत सारा है लेकि जब तक सारा गेट से पानी भरते हुए नहीं देखा जाता है। तब तक यह नीरस लग सकता है। मुझे वहां सबसे अच्छा आखिरी मुबारक द्वारा दिया गया स्नेक पार्क है उसके पास वास्तव में अच्छा संग्रह है ।

भटिंडा फॉल | Bathinda Fall

झरिया का इतिहास व धनबाद का पर्यटक स्थल
Image sources :- google

tourist places of Dhanbad :- भटिंडा फॉल धनबाद से लगभग 12 किलोमीटर दूर है । यह जगह खेलने मौज मस्ती करने और साथ – साथ पिकनिक मनाने के लिए बहुत अच्छा माना जाता है । यह जलप्रपात बहुतप्रसिद्ध है । उस समय पहले की ही बात है मैं और मेरी दोस्त सुबह – सुबह वहां गए । वास्तव में यह एक अच्छा स्थान है । हमने वहां जाकर मस्ती की और कुछ घंटे बैठे ।

tourist places of Dhanbad :- भठिंडा फॉल धनबाद शहर के काफी नजदीक होने के कारण प्रसिद्ध भारी संख्या में लोग आते हैं और अपने साथ खाने पीने का सामान लेकर आते हैं और फिर कचरे को यहां वहां फेक देते हैं । इस वजह से झरने के आसपास काफी ज्यादा कूड़ा कचरा देखने को मिलता है । अगर आप भी इस स्थल को देखने जाए तो प्राकृतिक खूबसूरती को बनाए रखने के लिए इधर – उधर कचरा ना रखें ताकि लोग भी इस सुंदरता को देख सके और इसका लुफ्त उठा सकें ।

tourist places of Dhanbad :- अगर आप भटिंडा फॉल जाना चाहते हैं तो आप किसी भी मौसम में जा सकते हैं । लेकिन इसकी खूबसूरती मानसुन के बाद देखने को मिलती है । इसके मनोरंजन और स्वच्छ जलप्रपात देखना चाहते हैं तो आपको अक्टूबर से जनवरी महीने के बीच में जाना चाहिए । यह स्थल अपनी खूबसूरती के साथ – साथ कई लोगों की मौत का कारण भी बन चुका है । इस जलप्रपात में लोगों की डूबने की खबर अक्सर सुनने को मिलती है। इस जलप्रपात में ही 7 घाटियां नामक स्थान है। जहां एक बड़ा सा कुंड है। जो काफी गहरा है इससे उनमें ज्यादातर लोग डूब जाते हैं । 

मैथन डैम | Maithon Dam

tourist places of Dhanbad
Image sources :- google

झरिया का इतिहास व धनबाद का पर्यटक स्थल  ;– यह बांध यात्रियों के घूमने के लिए बहुत अच्छा और है। मैथन बांध के झारखंड राज्य में धनबाद से 48 किमी दूर मैथन में स्थित हैं। इस बांध को विशेष रूप से बाढ़ नियंत्रण के लिए डिजाइन किया गया था और या 7000 kw विद्युत शक्ति उत्पन्न करता है। पूरे दक्षिण पूर्व एशिया में अपनी तरह का पहला भूमिगत पावर स्टेशन है। यह वर्ष 1948 में दामोदर घाटी निगम द्वारा विकासित किया गया था ।

tourist places of Dhanbad:- मैथन डैम एक खूबसूरत झील और खूबसूरत है । यह जंगलों के बीच स्थित है आप झील पर दोस्तों और परिवार के साथ नौकायन का लाभ उठा सकते हैं । इसके अलावा आप झील के चारों ओर घूम सकते है । जंगलों के फोटो को परिवार या दोस्तों के साथ शेयर कर सकते हैं। यहां से सूर्योदय और सूर्यास्त देखना पर्यटकों के लिए दर्शनिक है । जिसे अगर आप मैथन में है । जो इस अवसर को खोना नहीं चाहेंगे ।

मैथन डैम की लंबाई ,ऊंचाई ,चौड़ाई, आधार झेत्रफल इस प्रकार निम्नलिखित है :-

झरिया का इतिहास व धनबाद का पर्यटक स्थल  :- आप सभी को बता दिया जाए कि इसकी लंबाई 15712 फीट ( 4,789 मीटर ) ऊंचाई 165 फीट ( 50 मीटर ) चौड़ाई ( आधार ) 10,67 मीटर 35.0 फीट और 70 छेत्रफल 65 वर्ग किलोमीटर ( 25 वर्ग मील ) है ।

FAQ
मैथन डैम की लंबाई ,ऊंचाई ,चौड़ाई, आधार झेत्रफल क्या है?

इसकी लंबाई 15712 फीट ( 4,789 मीटर ) ऊंचाई 165 फीट ( 50 मीटर ) चौड़ाई ( आधार ) 10,67 मीटर 35.0 फीट और 70 छेत्रफल 65 वर्ग किलोमीटर ( 25 वर्ग मील ) है ।

मैथन डैम से कितने वाट की बिजली उत्पन्न होती है

मैथन डैम से 7000 kw विद्युत शक्ति उत्पन्न होती है।

भटिंडा फॉल घूमने के लिए हमें कब जाना चाहिए

यूं तो भटिंडा फॉल आप कभी भी कोई भी मौसम में जा सकते हैं लेकिन आप अक्टूबर से जनवरी के महीने के बीच में यदि जाते हैं तो बठिंडा हॉल का ज्यादा लाभ उठा पाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

17 + 13 =